60 प्रतिशत लोग मोबाइल पर देख रहे न्यूज चैनल और अखबार की खबरें

सर्वे में पता चला है कि 68.1 प्रतिशत लोग अपने मोबाइल फोन पर ही टीवी समाचार चैनल देखना पसंद कर रहे हैं।

मोबाइल फोन पर खबरों की खपत बढ़ रही है, क्योंकि 60 प्रतिशत से अधिक लोग समाचार पत्र और टीवी समाचार चैनल अपने स्मार्टफोन पर ही देख रहे हैं। आईएएनएस सी-वोटर मीडिया ट्रैकर के सर्वेक्षण में यह जानकारी सामने आई है। सर्वेक्षण के अनुसार, 61.7 प्रतिशत उत्तरदाताओं ने कहा कि वे मोबाइल फोन पर समाचार पत्र अधिक पढ़ रहे हैं, जबकि 32.5 प्रतिशत लोगों ने इस बात से असहमति जाहिर की।

सर्वे में पता चला है कि 68.1 प्रतिशत लोग अपने मोबाइल फोन पर ही टीवी समाचार चैनल देखना पसंद कर रहे हैं। सर्वेक्षण में भारत के सभी राज्यों से सभी जिलों के कुल 5000 लोगों को शामिल किया गया। टीवी न्यूज चैनलों के उपभोग के रुझान पर, सर्वेक्षण में पाया गया कि 31.8 प्रतिशत लोग चैनल को एक दिन में कई बार देखते हैं, जबकि 16.9 प्रतिशत इन्हें दिन में दो बार और 32.5 प्रतिशत दिन में एक बार न्यूज चैनल देखते हैं।

वहीं, अगर प्रिंट मीडिया की बात करें तो 51.9 प्रतिशत लोग प्रतिदिन दिन में एक बार समाचार पत्र पढ़ते हैं, जबकि 10.3 प्रतिशत दिन में कई बार पढ़ते हैं। सर्वेक्षण में न्यूज पोर्टलों के बारे में सवाल पूछा गया तो पाया गया कि 74.2 प्रतिशत लोग समाचार पोर्टल नहीं पढ़ते, जबकि 64.9 प्रतिशत रेडियो नहीं सुनते हैं। सर्वेक्षण के अनुसार, फेसबुक 31.7 प्रतिशत उत्तरदाताओं के साथ सबसे पसंदीदा सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म है, जिसके बाद व्हाट्सएप 21.4 प्रतिशत और ट्विटर एवं इंस्टाग्राम को पसंद करने वाले 5.7 प्रतिशत लोग हैं।

कुल 48 प्रतिशत उत्तरदाताओं ने कहा कि वे एक दिन में कई बार सोशल मीडिया का उपयोग करते हैं, 25.1 प्रतिशत ने कहा कि वे सोशल मीडिया का उपयोग नहीं करते हैं, जबकि 42.2 प्रतिशत ने कहा कि वे दिन में एक घंटे से अधिक समय तक सोशल मीडिया का उपयोग करते हैं। 76.7 प्रतिशत उत्तरदाताओं ने कहा कि औसत भारतीय को अधिक समाचार पत्रों की आवश्यकता है, जबकि 80.3 प्रतिशत ने कहा कि युवा पीढ़ी इंटरनेट पर मीडिया से संबंधित अधिक सामग्री देख रही है। कोरोनवायरस महामारी के दौरान त्योहारों से संबंधित खरीदारी के प्रभाव पर जब लोगों से सवाल पूछा गया तो 44.5 प्रतिशत ने कहा कि वे पिछले साल की तुलना में बहुत ही कम खर्च करेंगे, जबकि 25.8 प्रतिशत ने कहा कि वे पिछले साल की तुलना में थोड़ा कम खर्च करेंगे।